बिजली संकट के चलते चीन अंधेरे में डूब गया है। राजधानी बीजिंग और आर्थिक गतिविधियों का केंद्र शंघाई समेत कई दूसरे बड़े शहरों में भारी बिजली कटौती की जा रही है।

China electricity problem

चीन में कोयले की कीमत आसमान छू रही है और इससे थर्मल पावर प्लांट में बिजली उत्पादन घट गया है। बिजली की कमी से औद्योगिक उत्पादन पर बुरा असर पड़ा है।

चीन में बिजली संकट गहराने के साथ ही एशिया और यूरोप समेत दुनिया भर में सप्लाई चेन प्रभावित होने का खतरा बढ़ गया है। दुनियाभर कंपनियां कच्चे माल समेत अन्य उपकरणों के लिए चीनी कंपनियों पर निर्भर हैं।

China cut off electricity

चीन के स्टेट ग्रिड कापोरेशन ने रविवार से बीजिंग के कई क्षेत्रों में बिजली कटौती शुरू करने की बात कही है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक कई क्षेत्र में बिजली कटौती शुरू हो गई है जिससे कई इलाके अंधेरे में डूब गए हैं। घरों में लोगों को मोबाइल टॉर्च की रोशनी में गुजारा करना पड़ रहा है।

Power cutoff in china

अब तक बिजली कटौती के चलते मोबाइल चार्ज करने पर भी संकट पैदा हो गया है। करीब साढ़े चार करोड़ की आबादी वाले बीजिंग और शंघाई के आवासीय इलाकों में बिजली कटौती की योजना है।

बिजली आपूर्ति बाधित होने से शंघाई से सटे जियांगसू प्रांत में एप्पल और टेस्ला की सप्लाई पर असर पड़ा है। गुआंगडांग प्रांत में जापानी उत्पादकों द्वारा चलाई जा रही फैक्ट्रियों पर भी असर पड़ा है।