भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन ( इसरो) ने सोमवार को बताया कि भारतीय अंतरिक्ष यान चंद्रयान –2 ने चंद्रमा की 9000 से ज्यादा परिक्रमा पूरी कर ली है और उस पर लगे वैज्ञानिक उपकरणों ने बेहद उत्साहजनक डाटा उपलब्ध कराए हैं।

Chandrayaan 2 success

चंद्रमा की कक्षा में चंद्रयान-2 की परिक्रमा शुरू होने के 2 साल पूरे होने पर इसरो सोमवार से दो दिवसीय ‘चंद्र विज्ञान कार्यशाला; 2021 का आयोजन कर रहा है।

अपने उद्घाटन भाषण में इसरो के चेयरमैन के शिवन ने बताया कि chandrayaan-2 पर लगे 8 उपकरण चंद्रमा की सतह से करीब 100 किलोमीटर की ऊंचाई से उसका ऑब्जरवेशन कर रहे हैं।

इसरो के मुताबिक, इस मौके पर सिवन ने chandrayaan-2 पर लगे उपकरणों के डाटा के साथ साथ डाटा के नतीजे और वैज्ञानिक दस्तावेज जारी किए। सिवन ने कहा कि उन्होंने वैज्ञानिक परिणामों की समीक्षा की है और उन्हें बेहद उत्साहजनक पाया है।

इसरो में एपेक्स साइंस बोर्ड के वर्तमान चेयरमैन और इसरो के पूर्व चेयरमैन एएस किरण कुमार ने कहा कि chandrayaan-2 पर लगे इमेजिंग एवं वैज्ञानिक उपकरण शानदार डाटा उपलब्ध करा रहे हैं। उन्होंने कहा, chandrayaan-2 के उपकरणों में वास्तव में कई नए फीचर जोड़े गए हैं जिसने चंद्रयान-1 द्वारा किए गए आप जैकसन को नई और अधिक ऊंचाई पर पहुंचाया है।

Chandrayaan 2 mission success

Chandrayaan-2 की प्रोजेक्ट डायरेक्टर वनीथा एम. ने कहा कि इसकी अभी उप प्रणालियां ठीक ढंग से काम कर रही है। उम्मीद है कि इससे कई और वर्षों तक अच्छे डाटा मिल सकेंगे। बता दें कि इसरो की इस कार्यशाला की उसकी वेबसाइट और फेसबुक पेज पर लाइव स्ट्रीमिंग की जा रही है।